गद्य, पद्य, व्याकरण, छन्द, रस, अलंकार, समास इत्यादि

Wednesday, 28 November 2018

कामायनी / जयशंकर प्रसाद


कामायनी / जयशंकर प्रसाद


कामायनी / जयशंकर प्रसाद
https://www.hindisahitya.info


चौक उठी अपने विचार से कुछ दूरागत ध्वनि सुनती,     
इस निस्तब्ध निशा में कोई चली आ रही है कहती--  
“अरे बता दो मुझे दया कर कहाँ प्रवासी है मेरा ?
उसी बावले से मिलने को दाल रही हु मैं फेरा l


रूठ गया था अपनेपन से अपना सकी न उसको मैं,
वह तो मेरा अपना ही था भला मनाती किसको मैं l
यही भूल अब शूल सदृश हो, साल रही उर में मेरे,
कैसे  पाऊँगी उसको  मैं  कोई  आकर कह दे रे l”


इड़ा उठी, दिख पड़ा राज पथ धुंधली सि छाया चलती,
वाणी में थी करुण वेदना यह पुकार जैसे जलती l
शिथिल शरीर वसन विश्रृंखल कबरी अधिक अधीर खुली,
छिन्न पत्र मकरन्द लुटी सी ज्यों मुरझाई हुई कली l  

  
नव कोमल अवलम्ब साथ में वय किशोर उंगली पकडे,
चला आ रहा मौन धैर्य सा अपनी माता को जकड़े l                                          
थके  हुए  थे  दुखी  बटोही,  वे दोनों ही माँ - बेटे,
खोज  रहे  थे  भूले  मनु को जो घायल होकर लेटे l


इड़ा आज कुछ द्रवित हो रही दुखियों को देखा उसने,
पहुँची पास और फिर पूछा “तुमको बिसराया किसने ?
इस  रजनी  में  कहाँ भटकती जोगी तुम बोलो तो,
बैठो आज अधिक चंचल हूँ व्यथा गांठ निज खोलो तो l


जीवन  की  लम्बी  यात्रा  में खोए भी हाँ मिल जाते,
जीवन है तो कभी मिलन है कट जाती दुःख की रातें l”
श्रद्धा  रुकी  कुमार  श्रान्त था मिलता है विश्राम यहीं,
चली इड़ा के साथ जहाँ पर वहीँ शिखा प्रज्वलित रही l


सहसा धधकी वेदी ज्वाला मण्डप आलोकित करती,
कामायनी देख पायी कुछ पहुँची उस तक डग भरती l 
और वही मनु घायल सचमुच तो क्या सच्चा स्वप्न रहा ?
आह प्राण प्रिय, यह क्या? तुम यों? धुला ह्रदय बन नीर बहा l


इड़ा चकित,  श्रद्धा  आ बैठी  वह थी मनु को सहलाती,
अनुलेपन सा मधुर स्पर्श था व्यथा भला क्यों रह ?
उस मूर्छित नीरवता में कुछ हलके से स्पन्दन आए,
आँखे खुली चार कोनो में चार बिंदु आकर छाये l


इधर कुमार देखता ऊँचे, मंदिर, मण्डप, वेदी को,
यह सब क्या है नया मनोहर कैसे ये लगते जी को ?
माँ ने कहा, ‘अरे आ तू भी देख पिता हैं पड़े हुए’
‘पिता आ गया लो’ यह कहते उसके रोएँ खड़े हुए l


‘माँ जल दे, कुछ प्यासे होंगे क्या बैठी कर रही यहाँ ?
मुखर हो गया सूना मण्डप यह सजीवता रही कहाँ ?
आत्मीयता घुली उस घर में छोटा सा परिवार बना,
छाया एक मधुर स्वर उस पर श्रद्धा का संगीत बना l



                          ( कामायनी के ‘निर्देश’ सर्ग से )                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                           

1 comment:

HINDI SAHITYA said...

बहुत अच्छी कविता है