गद्य, पद्य, व्याकरण, छन्द, रस, अलंकार, समास इत्यादि

Tuesday, 27 November 2018

जाग तुझको दूर जाना / महादेवी वर्मा

                

                                     जाग तुझको दूर जाना / महादेवी वर्मा



जाग तुझको दूर जाना / महादेवी वर्मा
https://www.hindisahitya.info

                          

चिर सजग आँखे उनींदी आज कैसा व्यस्त बाना                                                                                   जाग तुझको दूर जाना l 

अचल हिमगिरी  के ह्रदय में आज चाहे कम्प हो ले,
या  प्रलय के आंसुओं में मौन अलसित व्योम हो ले;
आज  पी  आलोक  को  डोले तिमिर की घोर छाया, 
जाग  या  विद्युत् शिखाओं  में निठुर तूफान बोले l  
पर  तुझे  है  नाश  पथ पर चिन्ह अपने छोड़ जाना,                                                                             जाग तुझको दूर जाना l

बाँध  लेंगे  क्या  तुझे यह मोम के बंधन सजीले ?
पन्थ  की  बाधा  बनेंगे  तितलियों के पर रंगीले ? 
विश्व का क्रन्दन भुला देगी मधुप की मधुर गुनगुन, 
क्या  डुबा  देंगे तुझे यह फूल के दस ओस गीले ? 
तू  न  अपनी  छांह को अपने लिए कारा बनाना l                                                                                                      जाग तुझको दूर जाना l

वज्र का  उर  एक  छोटे  अश्रुकण  में  धो  गलाया, 
दे  किसे  जीवन  सुधा  दो  धूंट मंदिरा मांग लाया ?
सो  गई  आँधी मलय  की बात का उपधान लें क्या ? 
विश्व का अभिशाप क्या चिर नींद बनकर पास आया ?  
अमरता  सूत  चाहता  क्यों मृत्यु को उर में बसाना ?
                                       जाग तुझको दूर जाना l

कह न ठंडी सांस में अब भूल वह जलती कहानी, 
आग  हो उर में तभी दृग में सजेगा आज पानी, 
हार भी तेरी बनेगी  मानिनी  जय  की  पताका, 
राख क्षणिक पतंग की है अमर दीपक की निशानी l
है तुझे अंगार शय्या पर मृदुल कलियाँ बिछाना l 
                                      जाग तुझको दूर जाना l

                              ( ‘सांध्यगीत से’ )
मैंने आहुति बन कर देखा / सच्चिदानन्द हीरानंद वात्स्यायन 'अज्ञेय' 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                    

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                             

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                       
 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                           

No comments: