गद्य, पद्य, व्याकरण, छन्द, रस, अलंकार, समास इत्यादि

Wednesday, 28 November 2018

दान / सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला”

                                    

                                         दान / सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला”


दान / सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला”
https://www.hindisahitya.info

मैंने आहुति बन कर देखा / सच्चिदानन्द हीरानंद वात्स्यायन 'अज्ञेय' 

निकला पहिला अरविन्द आज, देखता अनिन्द्य रहस्य – साज;  

सौरभ - वसना  समीर  बहती, कानों  में  प्राणों  की  कहती; 
गोमती क्षीण – कटि नटी नवल, नृत्यपर -मधुर आवेश चपल l




मैं  प्रातः  पर्यटनार्थ  चला  लौटा, आ  पुल  पर  खड़ा हुआ, 
सोचा “विश्व का नियम निश्चल” जो जैसा,  उसको वैसा फल 
देती यह प्रकृति स्वयं सदया,  सोचने  को  न रहा कुछ नया, 
सौन्दर्य, गीत, बहू वर्ण , गन्ध, भाषा - भावों के छन्द – गंध, 
और भी उच्चतर जो विलास , प्राकृतिक  दान  वे  सप्रयास 
या अनायास आते  हैं  सब, सब में है श्रेष्ठ, धन्य, मानव l”

  

फिर देखा उस पुल के ऊपर, बहु संख्यक  बैठक  हैं  बानर l 
एक ओर पंथ के, कृष्णकाय  कंकाल शेष  नर मृत्यु – प्राय 
बैठा सशरीर  दैन्य  दुर्बल,  भिक्षा  को  उठी दृष्टि निश्चल,  
अति क्षीण कंठ, है तीव्र श्वास, जीता ज्यों जीवन से उदास l 

ढ़ोता जो वह, कौन सा शाप? भोगता कठिन, कौन सा पाप? 

यह प्रश्न सदा ही है पथ पर, पर सदा मौन इसका उत्तर l 
जो  बड़ी  दया  का उदाहरण,  वह पैसा एक, उपायकरण l 

                                    
मैंने  झुक  नीचे  को  देखा,  तो  झलकी  आशा की रेखा 
विप्रवर स्नान कर चढ़ा सलिल शिव पर दूर्वावल, तण्डुल, तिल,
लेकर  झोली  आए  ऊपर,  देखकर  चले  तत्पर  वानर l 


द्विज राम भक्त, भक्ति की आस भजते शिव को बारहों मास
कर  रामायण  का  पारायण,  जपते  हैं  श्री  मन्नारायण l

दुःख  पाते  जब  होते  अनाथ,  कहते  कपियो के जोड़ हाँथ,                                    
मेरे  पड़ोस के वे सज्जन,  करते प्रतिदिन सरिता – मज्जन,                                      
झोली  से  पुए  निकाल लिये,  बढ़ते  कपियों  के हाँथ दिये,                                      
देखा भी नहीं उधर फिर कर जिस ओर रहा वह भिक्षु इतर,   
चिल्लाया किया दूर दानव, बोला मैं --- “धन्य, श्रेष्ठ मानव l”

                                         ( ‘अपरा’ से )                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              

No comments: