गद्य, पद्य, व्याकरण, छन्द, रस, अलंकार, समास इत्यादि

Wednesday, 28 November 2018

मधु की एक बूंद /नरेन्द्र शर्मा

 

                           मधु की एक बूंद /नरेन्द्र शर्मा

मधु की एक बूंद /नरेन्द्र शर्मा
https://www.hindisahitya.info


                   मधु की एक बूँद के पीछे   
                   मानव ने क्या-क्या दुःख देखे !
                   मधु की एक बूंद धूमिल घन
                   दर्शन और बुद्धि के लेखे !

                            सृष्टि अविद्या का कोल्हू यदि,
                            विज्ञानी  विद्या  के  अंधे,
                            मधु की एक बूंद बिन कैसे 
                            जीव  करे  जीने  के  धंधे !
                   मधु की एक बूंद से भी यदि    
                   जुड़ न सके मन का अपनापा,
                   क्यों दे श्रमिक पसीना, सैनिक 
                   लहू, करे  क्यों  जाया  जापा !

                           मधु की एक बूंद से बच कर,       
                           व्यक्ति मात्र की बची चदरिया,   
                           न  घर  तेरा, ना घर,  मेरा,     
                           रेन-बसेरा    बनी   नगरिया !

                   मधु की एक  बूंद बिन,  रीते 
                   पांचो  कोश  और  पांचो जन, 
                   मधु की एक बूंद बिन, हम से 
                   सभी  योजनाएं  सौ  योजन !

                           मधु की एक बूंद बिन, ईश्वर 
                           शक्तिमान  भी शक्तिहीन है !
                           मधु  की  एक  बूंद  सागर है,
                           हर  जीवात्मा  मधुर मीन है l 

                  मधु की एक  बूंद  पृथ्वी में,     
                  मधु की एक बूंद शशी-रवि में
                  मधु की एक  बूंद कविता में,           
                  मधु की एक बूंद है कवि में ! 

                            मधु की एक  बूंद  के  पीछे       
                            मैंने अब तक कष्ट सहे शत,
                            मधु की एक  बूंद मिथ्या है-        
                            कोई  ऐसी  बात  कहे  मत !

                                                 ( ‘बहुत रात गए’ से ) 

No comments: