गद्य, पद्य, व्याकरण, छन्द, रस, अलंकार, समास इत्यादि

Monday, 3 December 2018

चींटी / सुमित्रानंदन पंत,कक्षा 10 हिंदी,हिन्दी साहित्य



                                          चींटी / सुमित्रानंदन पंत


                                         
चींटी / सुमित्रानंदन पंत
https://besthindisahitya.blogspot.com/
                                               

                           चींटी को देखा ?
                           वह सरल, विरल, काली रेखा
                           तम के तागे-सी जो हिल-डुल
                           चलती लघुपद पल-पल मिल-जुल
                           वह है पिपीलिका-पांति !
                           देखो ना, किस भांति
                           काम करती वह संतत;
                           कन-कन कनके चुनती अविरत !

                           गाय चराती,

                           धुप खिलाती,
                           बच्चों की निगरानी करती,
                           लड़ती, अरि से तनिक न डरती
                           दल के दल सेना संवारती,
                           घर, आंगन, जनपथ बुहारती !

                           चींटी है प्राणी सामाजिक,
                           वह श्रमजीवी, वह सुनागरिक l

                           देखा चींटी को ?
                           उसके जी को ?

                           भूरे-बालों की सि कतरन,
                           छिपा नही उसका छोटापन
                           वह समस्त पृथ्वी पर निर्भर
                           विचरण करती, श्रम में तन्मय,
                           वह जीवन की चिनगी-अक्षय ll

                           वह भी क्या देही है, तिल-सी ?
                           प्राणों की रिलमिल झिलमिल सी !
                           दिन भर में वह मीलों चलती,
                           अथक, कार्य से कभी न टलती !



No comments: