गद्य, पद्य, व्याकरण, छन्द, रस, अलंकार, समास इत्यादि

Sunday, 9 December 2018

मैथिलीशरण गुप्त,गीत मैथिलीशरण गुप्त,गीत मैथिली शरण गुप्त,मैथिलीशरण गुप्त की कविता


 सरकस / मैथलीसरण गुप्त 

सरकस / मैथलीसरण गुप्त
https://www.hindisahitya.info

               होकर कौतूहल के बस में,
               गया एक दिन मैं सरकस में ,
               भय विस्मय के काम अनोखे
               देखे बहू व्यायाम अनोखे l

                         एक बड़ा सा बंदर आया,
                         उसनें झटपट लैम्प जलाया
                         डट कुर्सी पर पुस्तक खोली
                         आ तब तक मैना यूँ बोली;

               हाजिर है हुजूर का घोड़ा
               चौक उठाया उसने कोड़ा
               आया तब तक एक बछेड़ा
               चढ़ बंदर ने उसको फेरा

                         एक मनुज अंत में आया
                         पकड़े हुए सिंह को लाया
                         मनुज सिंह की देख लड़ाई
                         की मैनें इस भांति बड़ाई;

               कई साहसी जंग डरता है
               नर – नाहर को वस करता है
               मेरा एक मित्र तब बोला
               भाई तू भी है बस भोला

                         यह सिंघी का जना हुआ है
                         किन्तु सियार यह बना हुआ है
                         यह पिंजड़े में बंद रहा है
                         कभी नहीं स्वच्छंद रहा है

               छोटे से यह पकड़ा आया
               मार मार कर गया सिखाया
               अपने को भी भूल गया है
               आती इस पर मुझे दया है l

No comments: