गद्य, पद्य, व्याकरण, छन्द, रस, अलंकार, समास इत्यादि

Sunday, 9 December 2018

विक्टोरिया मेमोरियल

                                      विक्टोरिया मेमोरियल 


विक्टोरिया मेमोरियल, victorita memoriyal, kolkata
https://www.hindisahitya.info


     कोलकाता का नाम लेते ही सफ़ेद संगमरमर की भव्य इमारत जो जेहन में उभरती है उसका नाम है विक्टोरिया मेमोरियल l इंडो-सारसेनिक स्थापत्य शैली में बनी इस इमारत का निर्माण सन 1910 में हुआ l इस महान संरचना को बनाने वाले वास्तुकार थे विलियम एमर्सन l स्थापत्यकार विलियम ने देश में कई महान संरचनाए बनवाई थीं ,जिसमे मुंबई का क्राफोर्ड मार्केट तथा प्रयागराज ( इलाहाबाद ) में आल सेंट्स कैथेड्रल जैसी सुप्रसिद्ध इमारतें शामिल हैं l इस संरचना को ब्रिटेन की महारानी विक्टोरिया को समर्पित किया गया था l
हिमालय की गोद में / हिमालय के दर्शन
हिमालय की गोद में / हिमालय के दर्शन

विक्टोरिया मेमोरियल , victoriya memoriyal, kolkata
https://besthindisahitya.blogspot.com/


    ब्रिटिस-भारत के तत्कालीन वायसराय लार्ड कर्जन ने दिवंगत महारानी की विक्टोरिया की स्मृति में क्वींस वे पर स्थित इस स्मारक के निर्माण की परिकल्पना की थी l इस महान स्मारक के निर्माण में उस समय एक करोड़ , पांच लाख रूपए का खर्च आया था l इस इमारत में लगभग 28,394 कला वस्तुओं और 3900 रंग रंग चित्रों का संग्रह किया गया है l विक्टोरिया मेमोरियल हाल के संग्रह में बोर्न एण्ड शेफर्ड के अनेक दुर्लभ फोटोग्राफ भी हैं l इस तस्वीरों के माध्यम से आप उस जमाने को बखूबी समझ सकते हैं l


विक्टोरिया मेमोरियल , voctoriya memoriyal, kolkata
https://besthindisahitya.blogspot.com/



    
इस संग्रहालय में दुर्लभ बौद्ध ग्रंथों से लेकर संस्कृत की की पांडुलिपियाँ भी बड़ी संख्या में संरक्षित हैं l आज भी यह कोलकाता का प्रमुख पर्यटन स्थल है l इस इमारत का रख – रखाव संस्कृति मंत्रालय द्वारा किया जाता है l

विक्टोरिया मेमोरियल , victoriya memoriyal , kolkata
https://besthindisahitya.blogspot.com/




    यहाँ आने से पहले आप आनलाइन टिकट भी बुक करवा सकते हैं l सोमवार और रास्ट्रीय अवकाश को छोड़कर यह इमारत हर रोज सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक खुली रहती है l कहा जाता है इस इमारत को देखने लगभग 20 लाख लोग दर्शक हर वर्ष आते है l 
हिमालय की गोद में / हिमालय के दर्शन
हिमालय की गोद में / हिमालय के दर्शन


No comments: